9 months ago

145

~ लेखक: Sunil

लौह की कमी

लौह की कमी

लौह की कमी सबसे पहले नई पत्तियों पर दिखाई देती है। ऊपरी पत्तियों का पीला पड़ना (क्लोरोसिस) जिसमें बीच का हिस्सा और पत्तियों की शिराएं स्पष्ट रूप से हरी रह जाती हैं (अंतःशिरा हरिमाहीनता), इसकी विशेषता है। बाद के चरणों में, यदि कोई उपाय नहीं किया जाता है, तो पूरी पत्ती सफ़ेद-पीली हो जाती है और पत्ती की सतह पर भूरे गले हुए धब्बे उभर आते हैं, जो बाद में अक्सर किनारों पर गले हुए हिस्सों के रूप में विकसित हो जाते हैं। प्रभावित क्षेत्रों को खेत में कुछ दूरी से आसानी से पहचाना जा सकता है। लौह की कमी वाले पौधों का विकास बाधित होता है तथा कम उपज की संभावना होती है।

Authentication required

You must log in to post a comment.

Log in
There are no comments yet.