सफ़ेद मक्खी (व्हाइट फ़्लाई )

Krishi Samadhan > बीमारी > सफ़ेद मक्खी (व्हाइट फ़्लाई )

सफ़ेद मक्खियाँ खुले खेतों और ग्रीनहाउसों की कई फ़सलों में आम हैं। लार्वा और वयस्क पौधे के रस का सेवन करते हैं और पत्ती की सतह, तने और फलों पर मधुरस या हनीड्यू छोड़ते हैं। पर्ण हरित हीन धब्बे (क्लोरोसिस) और राख जैसी फफूंद प्रभावित ऊतकों पर बन जाती है। भारी संक्रमण में, ये धब्बे एक-साथ जुड़कर, शिराओं के आसपास के क्षेत्र को छोड़कर, पूरी पत्ती को ढक लेते हैं। पत्तियां बाद में विकृत हो सकती हैं, घुमावदार हो सकती हैं या प्याले का आकार ले सकती हैं। कुछ सफ़ेद मक्खियाँ, टमाटर का येल्लो लीफ़ कर्ल वायरस या कसावा ब्राउन स्ट्रीक वायरस जैसे विषाणु फैलाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *