टमाटर का धब्बेदार उकठा विषाणु (स्पॉटिड विल्ट वायरस)

Krishi Samadhan > बीमारी > टमाटर का धब्बेदार उकठा विषाणु (स्पॉटिड विल्ट वायरस)

नई पत्तियों पर बैंगनी या भूरे रंग के धब्बे होना, इसके आरंभिक लक्षण हैं। ये लक्षण ज़्यादातर पौधे के ऊपरी हिस्से में दिखाई देते हैं। तनों और युवा पत्तियों पर बैंगनी धारियाँ और छोटे गहरे भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं, कभी-कभी ये एक के अंदर एक छल्ले बना लेते हैं। जब ये एक-दूसरे से मिल जाते हैं तो पत्ती के बड़े हिस्से को ढक लेते हैं, जिससे अंत में ऊतक गलने लगते हैं। तनों और डंठलों पर गहरी भूरी धारियाँ दिख सकती हैं। पौधे के गलन से सबसे ज़्यादा कोंपलें प्रभावित होती हैं। पौधे अवरुद्ध वृद्धि या एकतरफ़ा वृद्धि दर्शाते हैं। विकट रूप से संक्रमित पौधों में कच्चे टमाटर लगते हैं जिन पर चित्तीदार, हल्के हरे छल्ले और उभरे केंद्र होते हैं। पके, लाल फलों पर चटक भूरे छल्लों के साथ-साथ पीले धब्बे और दाने होते हैं जिनसे फल बेचने लायक नहीं रहते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *