चावल की फसलों में लीफ ब्लास्ट को कैसे नियंत्रित करें?

Krishi Samadhan > चावल > चावल की फसलों में लीफ ब्लास्ट को कैसे नियंत्रित करें?

लीफ ब्लास्ट, रात में काम तापमान (22-28 C) रहने, उच्च आर्द्रता, पत्तियों पर ओस के जमाव के कारण, जब पत्तियां 10 घंटे या उससे अधिक समय तक गीली रहती हैं, और मिट्टी में नाइट्रोजन का उच्च स्तर होने से होता है |

यह रोग एक सिंचित और पहाड़ी क्षेत्रों में गंभीर समस्या है | उच्च वर्षा वाले उत्तर और उत्तर-पूर्वी भारत क्षेत्रों (जहां वर्षा 1,500 मिमी से अधिक होती है), यह रोग जून-सितंबर के दौरान होता है | पश्चिमी और मध्य भारत में (जहां वर्षा 1,000 मिमी लगभग होती है) रोग अगस्त-अक्टूबर के दौरान होता है। दक्षिणी भारत में मुख्य रूप से लीफ ब्लास्ट नवंबर-फरवरी के शुष्क मौसम के दौरान होता है। 

नियंत्रण करने का तरीका  

प्रभावित क्षेत्रों में चावल के बीजों को ट्राईसाइक्लाज़ोल 75 WP @ 2 g/kg से उपचारित करें या कार्बेंडाजिम

50 WP @ 1 ग्राम/किग्रा से उपचारित करें। 

ट्राईसाइक्लाज़ोल 75 @ 0.6 ग्राम पर लिटर का छिड़काव करें या कारप्रोपामाइड 30 एससी @

1 मिली/लीटर का छिड़काव करें ।

चावल की प्रतिरोधी और रोग सहिष्णु किस्में उगाएं जैसे रासी, आईआर 64, प्रसन्ना, आईआर 36,

विकास, तुलसी, सस्यश्री आदि |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *